Jogi Movie Review: इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 के वे तीन भयानक दिन देखें जोगी मूवी रिव्यू दिलजीत दोसांझ

जोगी एक हिंदी भाषी भारतीय फिल्म है जिसका निर्देशन अली अब्बास ज़फ़री ने किया है। जोगी मूवी को 16 सितंबर 2022 को सिनेमाघरों में रिलीज किया गया इसमें मुख्य भूमिका में दिलजीत दोसांझ और कुमुद मिश्रा नज़र आए है।

फिल्म का नाम (Movie Name)जोगी (Jogi)
मुख्य कलाकार (Actor’s)दिलजीत दोसांझ, कुमुद मिश्रा
निर्देशक (Director)अली अब्बास ज़फ़री
स्टार रेटिंग 3/10
प्रदर्शित तिथि (Release Date)16 सितंबर 2022

जोगी मूवी की कहानी | Jogi Movie Story In Hindi

  • जोगी फिल्म की कहानी साल 1984 में हुए सिख विरोधी दंगो पर है इस फिल्म का नाम जोगी किसी किरदार पर नही बल्कि जगह का नाम है।
  • जोगी में दंगे करवाने वाला नेता मुकुंद मिश्रा कहता है की भले ही ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं हूं लेकिन इतना तो जानता हूं कि हर एक्शन का 100 परसेंट रिएक्शन होता है।
  • साल 1984 में जब इंदिरा गांधी की मृत्यु के बाद दिल्ली में बहुत ज्यादा सिख विरोधी दंगे जारी थी तब त्रिलोकपुरी के सिख परिवार एक गुरुद्वारे में शरण लेते हैं।
  • वही बाहर दिखाया जा रहा है कि पुलिस, सरकारी अफसर और नेता उन दंगाइयों को पेट्रोल, डीजल और हथियार सप्लाई कर रहे हैं।
  • नेता लोग वोटों के लालच में आकर दंगाइयों को भड़का रहे हैं उन्हें बिरयानी खिला रहे हैं और कत्लेआम के लिए उकसा रहे हैं।
  • वहीं जोगी बनें दिलजीत दोसांझ अपने दोस्त रविंद्र के साथ मिलकर अपनी कॉलोनी के सभी सिख परिवारों को बचाने की ठान लेता है और अपने काम पर लग जाता है।
  • कहानी में लव स्टोरी भी है जिसमे सबसे बड़ा दुश्मन वो पुलिसवाला उसकी बहन से जोगी यानी दिलजीत का प्यार दिखाया गया है।

तीन दिन तक किसी को भी मारो सब माफ

यह फिल्म सांप्रदायिक राजनीति की चरम है जिसमे एक नेता कहता है की पुलिस वालो को तीन दिन तक कोई भी शिकायत का फोन रिसीव नहीं करना है क्योंकि ये जो मारकाट हो रही है इसके आदेश ऊपर से आए है “तीन दिन तक सब माफ है”।

Netflix पर रिलीज होगी फिल्म

निर्देशक अली अब्बास जाफर को जब बॉक्स ऑफिस के सितारे नही मिलते तब वो अपनी फिल्में OTT Platform पर रिलीज करते हैं। मूवी जोगी भी नेटफ्लिक्स पर रिलीज की जायेगी।

फिल्म देखनी है या नही?

  • एक्टिंग सही:- फिल्मी मेन रोल में नजर आए दिलजीत दोसांझ और कुमुद मिश्रा ने अपना काम जबरदस्त किया है हालांकि और एक्टर ने भी काम सही ही किया है।
  • कहानी:- कहानी शानदार है लेकिन धीरे धीरे चलने के कारण और एक समय बाद मजा आना खत्म हो गया क्योंकि स्टोरी लाइन भी सही है।
  • निर्देशन:- निर्देशन भी ठीक ठाक कहा जा सकता है लेकिन तारीफ करने वाली कोई बात नही है।
  • देखें या नही:- अगर आप लंबे समय से कोई राजनीतिक फिल्म देखना चाहते हैं तो यह फिल्म आपके लिए बेस्ट है और सिख समुदाय ये फिल्म देख सकता है।

यह भी पढ़े

Leave a Comment