जीवन परिचय biography in Hindi

रामानुजाचार्य | जीवन परिचय, मूर्ति, जयंती, विशिष्टाद्वैत, पुस्तकें, इतिहास (Ramanujacharya Statue & Biography In Hindi)

Ramanuja Biography, Statue Haidrabad, Religion, Teachings, Philosophy, History In Hindi: आपको आचार्य रामानुज के बारे में संपूर्ण जानकारी मिलेगी।

परिचय

रामानुज (Ramanuja) एक दक्षिण भारतीय वैष्णव संत थे जिन्हे विशिष्टाद्वैत वेदान्त प्रवर्तक माना जाता है। आचार्य रामानुज को हिंदू धर्म शास्त्री और समाज सुधारक माना जाता है।

दक्षिण भारतीय संत रामानुज (Ramanuja) जीवनी

चर्चा में क्यों

  • हैदराबाद के मुचिन्तल में रामानुज की 65.8 वर्ग मीटर लंबी मूर्ति का अनावरण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 फरवरी को करने जा रहे है जिसका नाम समानता की मूर्ति (statue of equality) रखा है।
हैदराबाद में लगने वाली रामानुजाचार्य की प्रतिमा की जानकारी

मुख्य बिंदु

  • इन्ही की संत परंपरा ने कबीर, रैदास, सूरदास और रामानंद आदि हुए।
  • इन्होंने श्रीरंगम् के यतिराज नामक संन्यासी से भारतीय परंपरा से सन्यास की शिक्षा ली।
  • रामानुजाचार्य के प्रमुख ग्रंथो में श्रीभाष्यम् एवं वेदान्त संग्रहम् अग्रणी है।

रामानुज जीवनी | Ramanuja Biography In Hindi

रामानुज का जन्म तमिलनाडु में हुआ और उन्होंने वेदों की शिक्षा अपने गुरु यादव प्रकाश से ली। रामानुजाचार्य के गुरु श्री यामुनाचार्य भी प्रमुख आलवार सन्त थे। रामानुजाचार्य ने पूरे भारत की यात्रा करके वैष्णव धर्म का प्रचार प्रसार किया और 120 वर्ष की आयु में इनका ब्रह्मलीन हो गया।

नाम (Name)रामानुज (Ramanuja)
जन्म का स्थान और समय (Date Of Birth & Place) 1017 ई., श्रीपेरुमबुदुर, तमिलनाडु, भारत
मृत्यु का स्थान और समय (Date Of Death & Place) ब्रह्मलीन1137 ई., श्रीरंगम, तमिलनाडु, भारत
माता पिता का नाम माता कांतिमति और पिता असुरी केशव सोमयाजी
धर्म (Religion)हिंदू
गुरु (Teacher)श्री यामुनाचार्य
सम्मान श्रीवैष्णवतत्त्वशास्त्र के आचार्य
गुरु का संकल्पब्रह्मसूत्र, विष्णु सहस्रनाम और दिव्य प्रबन्धम् की टीका लिखना।

रामानुजाचार्य का विशिष्टाद्वैत दर्शन

आचार्य रामानुज ने अपने दर्शन ने परमात्मा के संबंध ने तीन स्तर माने जो निम्नलिखित है।

ब्रह्मईश्वर
चित्आत्म
अचित्प्रकृति
रामानुजाचार्य का विशिष्टाद्वैत दर्शन
  • इसके अनुसार चित् अर्थात आत्म तत्व और अचित् तत्व भी ब्रह्म तत्व से अलग नहीं है। बल्कि ये दोनो ब्रह्म के ही स्वरूप है इसे ही रामनुजाचार्य का विशिष्टाद्वैत कहा जाता है।
  • जिस तरह से शरीर और आत्मा दोनो अलग अलग नहीं है शरीर आत्मा के उद्देश्य की पूरी के लिए कार्य करता है। उसी प्रकार ईश्वर से अलग होकर चित और अचित का कोई अस्तित्व नहीं है। यह ईश्वर का शरीर है और ईश्वर ही इसकी आत्म है।

रामानुज के अनुसार भक्ति कैसे करें?

  • पूजा पाठ और कीर्तन ना करके ईश्वर की प्रार्थना करना ही भक्ति है।
  • भक्ति से किसी जाति और वर्ग को वंचित नहीं किया जा सकता।
  • जीव जो है वो ब्रह्म में पूर्ण विलय नही होता बल्कि भक्ति के माध्यम से उसके निकट जाता है इसे ही आचार्य रामानुज मोक्ष मानते है।

कुछ रोचक तथ्य

  • रामानुजाचार्य जी ने अपने सभी ग्रंथ संस्कृत भाषा में लिखे थे।
  • कई लोगो ने इन्हे भगवान राम के भाई लक्ष्मण का अवतार माना है।
शेषनाग के अवतार माने जाते है रामानुजाचार्य महाराज
  • रामानुजाचार्य ने भक्ति को दार्शनिक रूप प्रदान किया।
यह भी पढ़े
Ram Singh Rajpoot

Recent Posts

RBSE 5th Result 2022: जारी होने में कुछ समय ऐसे करें चेक? | 5वीं बोर्ड रिजल्ट राजस्थान, अजमेर (RajeduBoard.Rajasthan.Gov.In)

Ajmer Board Rajasthan 5th Result 2022 Name Or Roll Number Wise RajeduBoard.Rajasthan.Gov.In: राजस्थान बोर्ड, अजमेर…

1 day ago

राजा राम मोहन राय जयंती 2022, निबंध, भाषण रोचक तथ्य

Raja Ram Mohan Roy Jayanti 2022 Essay In Hindi UPSC: राजा राम मोहन राय का…

1 week ago

REET 2022 के बाद होने वाली शिक्षक भर्ती परीक्षा जनवरी 2023 में होना प्रस्तावित

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, राजस्थान, अजमेर द्वारा रीट पात्रता परीक्षा 2022 का आयोजन 23 और 24…

1 week ago

जुलाई 2022 में रीट का पेपर भी लीक होगा जानें किरोड़ी लाल मीणा ने ऐसा क्यों कहा

राजस्थान बीजेपी सरकार में मंत्री रहे किरोड़ी लाल मीणा ने कहा की रीट 2022 का…

1 week ago

क्या है पूजा स्थल अधिनियम 1991 | क्या ज्ञानवापी मस्जिद को तोड़कर मंदिर बनाया जा सकता है?

Place Of Worship Act 1991चर्चा में क्यों ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में शिवलिंग मिला है…

1 week ago