राजा राममोहन राय | जीवनी, निबंध, सामाजिक सुधार, राजनीतिक और आर्थिक विचार Raja Ram Mohan Roy Biography In Hindi upsc pdf

Raja Ram Mohan Roy Biography In Hindi Upsc Pdf Download: राजा राममोहन राय जीवनी निबंध राजनीतिक उदारवादी विचार, सामाजिक और आर्थिक सुधार की सभी जानकारी आपको इस लेख में मिल जायेगी।

राजा राममोहन राय का जन्म 22 मई 1772 को राधानगर, बंगाल में हुआ और इनकी मृत्यु 27 सितंबर 1833, ब्रिस्टल, यूनाइटेड किंगडम में हुई। साल 1809 से साल 1814 तक राजा राममोहन राय ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए भी काम किया। इनके माता पिता ने भी बाद में इनको घर से बाहर निकाल दिया।


राजा राममोहन राय

“क्या आपको पता है वैसे तो राजा राममोहन राय ने बहुविवाह का विरोध किया लेकिन उन्होंने स्वयं 3 विवाह किए थे। “

विचार / रोचक तथ्य

राजा राममोहन राय जन्म:- 22 मई 1772, राधानगर, बंगाल मृत्यु:- 27 सितंबर 1833, ब्रिस्टल, यूनाइटेड किंगडम सामाजिक आर्थिक और राजनीतिक विचार निबंध निष्कर्ष संपूर्ण जानकारी
इस निबंध में आप राजा राममोहन राय के बारे में सम्पूर्ण जानकारी पा सकते हैं।

Contents

राजा राममोहन राय के बारे में ये जरूर पढ़े

  • राजा राममोहन राय ने ब्रह्म समाज की स्थापना 20 अगस्त 1828 को कलकत्ता में की थी, यह 19वीं शताब्दी का प्रथम समाज सुधार आन्दोलन था।
  • राजा राममोहन राय को भारतीय पुनर्जागरण का पिता तथा प्रभात का तारा कहा जाता है।
  • राय बंगाली पत्रिका “संवाद कौमुदी” और फारसी पत्र “मिरातुल अखबार” का प्रकाशन किया।
  • राजा राममोहन राय की मृत्यु के बाद इनके विचारों का प्रचार-प्रसार हेतु रविंद्र नाथ टैगोर के पिता जी देवेंद्र नाथ टैगोर जी ने 1839 में कलकत्ता में तत्व बोधिनी सभा की स्थापना की।
  • इन्होंने मात्र 16 वर्ष की आयु में ही हिंदुओ की मूर्ति पूजा की आलोचना शुरू कर दी।
  • अंग्रेज सरकार ने राजा राममोहन राय की आलोचना के बाद नवंबर 1830 में सती प्रथा के विरोध में कानून लेकर पारित किया। उसके विरोध से बचने के लिए राममोहन राय इंग्लैंड रहने लगे।
  • राम मोहन राय को राजा की उपाधी दिल्ली के मुगल सम्राट अकबर II ने दी, जब वो अकबर II की पेंशन संबंधी समस्या के लिए इंग्लैंड गए।
  • इन्होंने तिब्बत जाकर सबसे पहले बौद्ध धर्म का अध्ययन किया और बाद ने भारत आकर शादी की।
  • राममोहन राय ने 1825 में उन्होंने वेदांत कॉलेज की स्थापना इसमें सामाजिक और भौतिक विज्ञान की पढ़ाई भी की जाती थी।

Latest News In Hindi

राजा राममोहन राय जीवन परिचय | Raja Rammohun Roy Biography in Hindi

जीवनी

राजा राममोहन राय का जन्म 22 मई 1772 को राधानगर बंगाल में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ उनके पिता जी का नाम रमाकांत और माता का नाम तरिणीदेवी था। इनके तीन विवाह हुए जिनमे से दूसरी पत्नी से इन्हे 2 बच्चो की प्राप्ति हुई।

नाम राजा राममोहन राय
जन्म की तारीख और स्थान22 मई 1772, राधानगर, बंगाल
मृत्यु की जगह और तारीख27 सितंबर 1833, ब्रिस्टल, यूनाइटेड किंगडम
माता पिता का नाम रमाकांत(पिता),
माता का नाम(माता)
पत्नी का नाम उमा देवी (तीसरी पत्नी)
स्थापना ब्रह्म समाज, आत्मीय सभा
उपनाम नए युग का अग्रदूत, भारतीय पुनर्जागरण का पिता, प्रभात का तारा ,बंगाल में नव-जागरण युग के पितामह
पेशा लेखक, समाज सुधारक, अंग्रेजो और मुगल बादशाह के लिए राजकीय सेवा
जाती/ धर्म ब्रह्मण / हिंदू
आने वाली भाषाएं अंग्रेजी, फारसी, संस्कृत, अरबी, लेटिन,ग्रीक भाषाओं के जानकर
बेटे 1880 मे राधाप्रसाद
1882 में रामप्रसाद
अखबार संवाद कौमुदी, मिरातुल पत्र

राम मोहन राय की शिक्षा

राजा राममोहन राय की शिक्षा के बारे में अनेक मत प्रचलित है जिनमे से एक मत कहता है की उन्होंने अपने गांव से प्रारंभिक शिक्षा ली और संस्कृत, बंगाली और फारसी भाषा सीखी। कहा जाता है की उन्होंने पटना के एक मदरसे से फारसी और अरबी का अध्ययन किया। बनारस से उन्होंने वेदों और उपनिषदों का ज्ञान लिया।

राजा राममोहन राय की विचारधारा

  • राजा राममोहन राय पश्चिमी सभ्यता से बहुत ज्यादा प्रभावित थे इसी कारण उन्होंने वहां की अभिव्यक्ति की आजादी और बहुत सारी चीजें सीख कर भारत में भी उनको लागू किया।
  • बंगाल में उन्होंने जैसा देखा और जैसी प्रथाएं देखी उनका उन्होंने बहुत ज्यादा विरोध किया क्योंकि लोग उनको अंधता से स्वीकार किए जा रहे थे।
  • उन्होंने महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों पर ध्यान दिया और उनके सशक्तिकरण पर बहुत ज्यादा बल दिया।
  • उन्होंने ईश्वर को एक माना और एकेश्वरवादी ब्रह्म समाज की स्थापना की।

राजा राममोहन राय के सामाजिक/ धार्मिक सुधार

मूर्तिपूजा का विरोध

राजा राममोहन राय मूर्ति पूजा के घोर विरोधी थे उनके मन में कई बार साधु बनने का विचार आया लेकिन उन्होंने अपने आप को शांत कर लिया क्योंकि उनका मां ये नही चाहती थी। मूर्ति पूजा के विरोध के कारण उन्हें परिवार से निकाला गया और देश निकाला भी दिया गया।

ब्रह्मा समाज की स्थापना

हिंदू धर्म में फैली कुरूतियों से निपटने के लिए 20 अगस्त, 1828 को राजा राममोहन राय ने ब्रह्म समाज की स्थापना की थी। इसकी स्थापना से ही भारत में पहली बार सामाजिक धार्मिक सुधार आन्दोलन की शुरुआत हुई। इसके जरिए राजा राममोहन राय ने सती प्रथा जैसे कुरुति को पहचाना और उनकी विरोध किया।

  • ब्रह्म समाज एक ईश्वर में विश्वास करता है और वो ही सर्वोच्च है।
  • जाति प्रथा, बाल विवाह, पर्दा प्रथा और सती प्रथा जैसी कुरूतियो को मिटाने पर जोर दिया।
  • राजा राममोहन राय ने बहुविवाह का विरोध किया लेकिन उन्होंने स्वयं 3 विवाह किए थे।
  • महिलाओं के लिए संपत्ति विरासत में लड़को की तरह मिले इसकी वकालत की।
  • ब्रह्म समाज के प्रमुख नेताओं में देवेंद्रनाथ टैगोर, केशव चन्द्र सेन भी रहे।

सती प्रथा का विरोध

राजा राममोहन राय और सती प्रथा का विरोध
सती प्रथा प्रतिकात्मक चित्र

सती प्रथा भारतीय समाज की एक बहुत बड़ी प्रथा थी जिसमें पति के मर जाने के बाद पत्नी को भी उसके साथ चिता पर बिठा दिया जाता था इसका राजा राममोहन राय ने घोर विरोध किया और 1829 में ब्रिटिश सरकार ने इसके विरोध में एक कानून बनाया जिसका श्रेय राजा राममोहन राय को दिया जाता है।

राजा राममोहन राय का धर्म

राजा राममोहन राय के धार्मिक विचार
राजा राममोहन राय के धार्मिक विचार

राजा राममोहन राय सभी धर्मों की मौलिक सत्यता पर विश्वास करते थे मुस्लिम उन्हें मुसलमान मानते थे और वही हिंदू भाई उन्हें हिंदू धर्म का मानते थे। ईसाई भी इसमें पीछे नहीं थे। यहां तक की अंग्रेजी पत्र में लिखा मिला की राजा राममोहन राय को गवर्नर जनरल बना देना चाहिए क्योंकि वो न हिंदू है ना ईसाई न मुस्लिम।

बाल विवाह और पर्दा प्रथा का विरोध

राजा राममोहन राय के द्वारा पर्दा प्रथा और बाल विवाह का विरोध

हिंदू और मुस्लिम दोनो धर्मो में प्रचलित बाल विवाह जिसमे बच्चो का जल्दी ही काम उम्र में विवाह कर दिया जाता है इसका विरोध उस समय राजा राममोहन ने किया। वही पर्दा प्रथा जो महिलाओं को पर्दे के पीछे रखा जाता था उसका भी इन्होंने विरोध कर दिया।

शैक्षणिक सुधार

वेदांत कॉलेज की स्थापना

साल 1825 में राजा राममोहन राय ने वेदांत कॉलेज की स्थापना की जिसमे वेदों के साथ भौतिक विज्ञान और पश्चिमी संस्कृति (समाज) के बारे में पढ़ाया जाता था।

हिंदू कॉलेज की स्थापना

इन्होंने 1817 में हिंदू कॉलेज की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यह उस समय का आधुनिक कॉलेज था।

आर्थिक विचार

राजा राममोहन राय ने सामाजिक सुधारों के साथ-साथ आर्थिक क्षेत्र में भी सुधार किए जिन्हे आप निम्नलिखित पढ़ सकते है।

कराधान सुधार

राजा राममोहन राय ने बंगाल में चल रही किसानों के ऊपर चल रही दमनकारी नीतियों का विरोध किया। और कर को हटा देने और करमुक्त भूमि की मांग भी अंग्रेजो के सामने रखी।

ईस्ट इंडिया कंपनी के व्यापार अधिकारो को खत्म करके बाहर से आने वाले माल पर टैक्स कम किया जाए। - राजा राममोहन राय

साथ ही ईस्ट इंडिया कंपनी के व्यापारिक अधिकारो को भारत से समाप्त करने पर भी जोर दिया। विदेशों से आ रही वस्तुओ पर सीमा कर कम कर दिया जाना चाहिए ये उनका मानना था।

राजनीतिक विचार

राजा राममोहन राय ने सामाजिक आर्थिक के साथ-साथ राजनीतिक विचार भी दिए जिनमें आप निम्नलिखित पढ़ सकते हैं।

नागरिक स्वतंत्रता

स्त्री पुरुष, अंग्रेज भारतीय, हिंदू मुस्लिम, पंडि...तथ हो समान व्यवहार - राजा राममोहन राय की इच्छा

राजा राममोहन राय ने इंग्लैंड जैसे पश्चिमी देशों का अध्ययन किया और उन्होंने पाया कि वहां चल रही संवैधानिक सरकार नागरिकों को जो अधिकार दे रही है वह भारत में भी दिए जाएं। सभी की समानता पर भी राय ने जोर दिया।

न्यायिक व्यवस्था

न्यायिक व्यवस्था में सुधार के लिए उन्होंने 1827 में आए ज्यूरी एक का विरोध किया था। इसके अनुसार ईसाई तो हिंदू और मुस्लिम के फैसले कर सकता था लेकिन हिंदू और मुस्लिम ईसाइयों के फैसले नही कर सकते थे जिससे भेदभाव उत्पन्न होता था।

प्रशासनिक विचार

1833 ई. में कॉमन सभा की प्रवर समिति के समक्ष इन चीजों की सिफारिश की थी।

  • देशी लोकसेवा की स्थापना
  • देशवासियों को अधिक नौकरियाँ और उच्च पद देना
  • रय्यतवाड़ी भूमि प्रबंधन में सुधार
  • योग्यता के अनुसार पदो पर नियुक्ति

राजा राममोहन राय द्वारा लिखित किताबें और साहित्य

Raja RamMohan Roy Books इशोपनिषद (1816) कठोपनिषद (1817) मूंडुक उपनिषद (1819) ब्राह्मापोसना (1828) ब्रहामसंगीत (1829) दी युनिवर्सल रिलिजन (1829 वेदांत गाथा (1815) JodhpurNational University.com
राजा राम मोहन राय द्वारा लिखित पुस्तकें
तुहफ़त-उल-मुवाहिदीन (1804)मुंडक उपनिषद (1819)द प्रिसेप्टस ऑफ जीसस- द गाइड टू पीस एंड हैप्पीनेस (1820)
वेदांत गाथा (1815)हिंदू धर्म की रक्षा (1820)ब्राह्मापोसना (1828)
वेदांत सार (1816)बंगाली व्याकरण (1826)द यूनिवर्सल रिलीजन (1829)
केनोपनिषद (1816)दी युनिवर्सल रिलिजन (1829)
ईशोपनिषद (1816)ब्रहामसंगीत (1829)
कठोपनिषद (1817)गौड़ीय व्याकरण (1833)भारतीय दर्शन का इतिहास (1829)

राजा राममोहन राय के पत्रकारिता पर विचार

अभिव्यक्ति की आजादी और पत्रकारिता की स्वतंत्रता पर जोर
ब्रह्ममैनिकल मैग्ज़ीनमिरात-उल-अखबार
संवाद कौमुदीबंगदूत
राजा राममोहन राय द्वारा अखबारों का प्रकाशन

जब अंग्रेजों ने भारत को अपना उपनिवेश बना लिया तो कुछ भी चीज प्रकाशित करवाने से पहले अंग्रेजी हुकूमत की अनुमति लेनी पड़ती थी जिसका राजा राममोहन राय ने पुरजोर विरोध किया और कई अखबारों का प्रकाशन किया। राजा राममोहन राय अभिव्यक्ति की आजादी का खुला समर्थन करते थे और अंग्रेज कई लोगो की आवाज प्रकाशित होने से पहले ही दबाना चाहते थे।

राजा राममोहन राय की अभिव्यक्ति की आजादी साल 1821 में एक अंग्रेज जज ने एक भारतीय प्रतापनारायण दास को कोड़े लगाने की सजा दी। NEWS TODAY उन कोड़ो से लगी चोट के कारण वीर प्रतापनारायण दास की मृत्यु हो गई। लेकिन राममोहन राय डरे नहीं और उन्होंने इसके लिए एक लेख लिखा।

राजा राममोहन की मृत्यु

8 अप्रैल 1831 को राजा राममोहन राय ईस्ट इंडिया कंपनी की शिकायत करने के लिए इंग्लैंड गए और बाद में वो पेरिस गए लेकिन एक दिन 27 सितम्बर 1833 यूनाइटेड किंगडम में मेनिंजाइटिस (दिमागी बुखार) से उनकी मृत्यु हो गई और बाद में ब्रिटेन के ब्रिस्टल नगर के आरनोस वेल कब्रिस्तान में राजा राममोहन राय की समाधि बनाई गई।

विचारो और जीवन का निष्कर्ष

मेरे अनुसार राजा राममोहन राय भारत के समाजसेवी थे जिन पर मुगल शासकों और अंग्रेजों का प्रभाव था उन्होंने अनेक धर्म होते हुए सिर्फ हिंदू धर्म में सुधार किया और वो मुगल शासक अकबर 2 के लिए काम करते थे। लेकिन सती प्रथा जैसी कुरूति पर संपूर्ण देश को राजा राममोहन राय का धन्यवाद करना चाहिए। वो सभी धर्मो को समान मानते थे इसके कारण सभी लोग उनसे प्यार करते है।

राजा राममोहन राय की जयंती 2022

राजा राममोहन राय की जयंती हर वर्ष 22 मई को उनके जन्म दिवस पर मनाई जाती है। इस वर्ष भी इनकी जयंती बड़े हर्षो उल्लास के साथ मनाई जाएगी।

यह भी पढ़े

Leave a Comment

Skin Care Tips For Oily Skin In Hindi Why do Indians keep their money in Swiss banks? Jio के इस रिचार्ज के फायदे जान लें? John Abraham के birthday पर उनके बारे में रोचक तथ्य Garuda Purana: स्वर्ग से आई आत्मा के गुण Relationship advice: breakup के बाद क्या करें? भारतीय शादियों में अंधविश्वास इस्लाम धर्म क्यों खत्म होता जा रहा है? देखें कारण। Bitcoin को करेंसी के रूप में मान्यता देने का प्रस्ताव: निर्मला सीतारमण साउथ सुपरस्टार रजनीकांत के बारे में रोचक तथ्य Guru Gobind Singh Jayanti 2022: जाने गुरु के उपदेश Top 5 bitcoin hardware wallet 2021-2022 शशि थरूर के साथ 6 महिला सांसदों की फोटो वायरल देखें पत्नी को फोटो जियो meet क्या है? और jio meet के रोचक Features The Kapil Sharma show video: Salman Khan & Katrina Kaif से लिए मजे Dani Daniels: फैंस ये फोटो जरूर देखें Smartphone under 1000 ये देखकर भारतीय होने पर गर्व करेंगे National mathematics day & Shrinivasa Ramanujan की की जयंती पर Quote Isaac Newton ने जब की Stock market में इन्वेस्ट