लेख | Article

सरोगेसी क्या है? | प्रक्रिया, प्रकार, नियम कानून (Sarogesi Pregnancy Progress In Hindi)

Sarogesi Pregnancy Prosess In Hindi Wikipedia Drishti IAS: सरोगेसी प्रेगनेंसी क्या है सब लोग इसे जानना चाहते हैं तो आप सही पोस्ट पर आए है आपको पूरी जानकारी मिलेगी।

परिचय / अर्थ

Sarogesi को हिंदी में स्थानापन्न मातृत्व कहते है, इसके जरिए कोई कपल किसी कारण से बच्चा अपनी कोख में पैदा नहीं करना चाहता तो वो एक किराए पर सरोगेट मदर ले सकते है और उसकी कोख में अपना बच्चा पाल सकते है और उनके बीच एग्रीमेंट होता है की कोख से बच्चा पैदा होने के बाद सरोगेसी कराने वाले कपल का होगा।

साधारण शब्दों में सरोगेसी का अर्थ ” किसी दूसरी महिला को कोख में एग्रीमेंट पर अपने बच्चे को पालना” सरोगेसी या स्थानापन्न मातृत्व कहलाता है।

चर्चा में क्यों

  • हाल ही में अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा सरोगेसी के द्वारा एक बच्ची की मां बनी है। इससे सरोगेसी प्रेगनेंसी प्रक्रिया लोगो के मन में आई है।
  • सरोगेसी प्रक्रिया ने इससे पहले प्रीति जिंटा, शिल्पा शेट्टी और शाहरुख खान जैसे बड़ी हस्तियों को संतान दी है।
प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस

सरोगेसी के प्रकार

सरोगेसी के 2 प्रकार होते है जो निम्न प्रकार है

  • ट्रेडिशनल सरोगेसी :- इसमें होने वाले पिता के स्पर्म को सरोगेट मां के एग्स से मैच करवाया जाता है इस प्रकार सरोगेट मदर ही बच्चे की बॉयोलॉजिकल मां होती है।
  • जेस्टेशनल सरोगेसी :- इसमें सरोगेट मदर बच्चे की बॉयोलॉजिकल मां नही होती बल्कि असली मां का एग ही उसके यूट्रस में स्थापित किया जाता है और पिता बनने वाले व्यक्ति के सपर्म से मैच करवाया जाता है।

सरोगेसी के नियम / कानून

भारत जैसे देश में सरोगेसी के दुरुपयोग हो सकते है जिसे देखते हुए सरकार ने बहुत नियम तय किए हुए है।

  • जैसा की आप सभी को पता है की पैसे की कमी के कारण गरीब महिलाएं ही सरोगेट मदर बनती है, इसलिए भारत सरकार ने कॉमर्शियल सरोगेसी पर 2019 में पूर्णत: प्रतिबंध लगा दिया था।
  • सरोगेसी के लिए सरोगेट मदर के पास मेडिकल रूप से फिट होने का सर्टिफिकेट होना चाहिए, तभी वह सरोगेट मां बन सकती है।
  • वहीं दूसरी ओर सरोगेसी का सहारा लेने वाले कपल के पास इस बात का मेडिकल प्रमाण पत्र होना चाहिए कि वो इनफर्टाइल हैं और किसी भी कारण से बच्चे को जन्म नही दे सकते।
  • सरोगेसी रेगुलेशन बिल 2020 : इसके तहत इक्षुक महिलाएं सरोगेट बन सकती है। इस बिल में इसको थोड़ा लचीला बनाया गया है।

धार्मिक बंधन

ईसाई धर्म में सरोगेसी

ईसाई धर्म में दो समुदाय है और दोनो का मत अलग अलग है कैथलिक इसे सही नही मानते तो प्रोटेस्टेन्ट भी इसे कुछ हद तक सही मानते है लेकिन ईसाई दुनिया का सबसे ज्यादा विकसित धर्म है तो लोगो का मानना है की वो इसे आसानी से मानेंगे।

यहूदी धर्म

यहूदी धर्म ने सरोगेसी प्रेगनेंसी प्रक्रिया को काफी हद तक स्वीकार किया है।

इस्लाम धर्म

मुसलमानों के शरिया क़ानून के अनुसार सरोगेसी को गैर कानूनी माना गया है इसके अनुसार पैदा होने वाले बच्चे को सही वंश नही मिल पाता।

हिंदू, बौद्ध, जैन और सिख

यह सभी प्राचीनतम भारतीय धर्म है जो बच्चे को पैदा करना जिम्मेदारी ही नही अपने मन और तन से जुड़ा मानते है यहां सरोगेट मदर के बजाय बच्चे को गोद लेना ज्यादा बेहतर समझते है।

अन्य मुख्य बिंदु / निष्कर्ष

  • हालांकि भारत में सरोगेट मदर बनने के लिए कानूनी प्रक्रिया कठिन है लेकिन फिर भी पैसे के लिए गरीब महिलाएं सरोगेसी प्रक्रिया से बच्चे को जन्म देती है।
  • यह एक अच्छी तकनीक है जिससे जो लोग मां या पिता नही बन सकते उनके लिए ये वरदान से कम नहीं।
यह भी पढ़े

Ram Singh Rajpoot

Recent Posts

RBSE 5th Result 2022: जारी होने में कुछ समय ऐसे करें चेक? | 5वीं बोर्ड रिजल्ट राजस्थान, अजमेर (RajeduBoard.Rajasthan.Gov.In)

Ajmer Board Rajasthan 5th Result 2022 Name Or Roll Number Wise RajeduBoard.Rajasthan.Gov.In: राजस्थान बोर्ड, अजमेर…

2 days ago

राजा राम मोहन राय जयंती 2022, निबंध, भाषण रोचक तथ्य

Raja Ram Mohan Roy Jayanti 2022 Essay In Hindi UPSC: राजा राम मोहन राय का…

1 week ago

REET 2022 के बाद होने वाली शिक्षक भर्ती परीक्षा जनवरी 2023 में होना प्रस्तावित

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, राजस्थान, अजमेर द्वारा रीट पात्रता परीक्षा 2022 का आयोजन 23 और 24…

1 week ago

जुलाई 2022 में रीट का पेपर भी लीक होगा जानें किरोड़ी लाल मीणा ने ऐसा क्यों कहा

राजस्थान बीजेपी सरकार में मंत्री रहे किरोड़ी लाल मीणा ने कहा की रीट 2022 का…

1 week ago

क्या है पूजा स्थल अधिनियम 1991 | क्या ज्ञानवापी मस्जिद को तोड़कर मंदिर बनाया जा सकता है?

Place Of Worship Act 1991चर्चा में क्यों ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में शिवलिंग मिला है…

1 week ago