जीवन परिचय biography in Hindi

जीवनी रणजीतसिंहजी जडेजा की जिनके नाम पर है रणजी ट्रॉफी

रणजीतसिंहजी कौन है

सर रंजीतसिंहजी विभाजी (Sir Ranjitsinhji Vibhaji) भारतीय राज्य नवानगर के महाराजा जाम साहिब थे और वे दुनिया के महानतम क्रिकेट खिलाड़ियों में से एक थे जिसके कारण उनकी मृत्यु के एक साल बाद 1934 में उनके नाम से भारत में रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) का आयोजन किया जाता है।

आज हम आपको रणजी ट्रॉफी के जनक महाराजा रणजीत सिंहजी के बारे में संपूर्ण जानकारी देने जा रहे तो कृपया लेख को ध्यान से पढ़े।

रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja)

रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा जीवन परिचय | Sir Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja Biography In Hindi

पूरा नाम (Full Name)रंजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja II)
जन्म तिथि और स्थान (Date Of Birth & Place)10 सितंबर 1872, सदोदर, काठियावाड़ , बॉम्बे प्रेसीडेंसी , ब्रिटिश भारत
मृत्यु का समय और स्थान (Date Of Death & Place)2 अप्रैल 1933 (आयु 60 वर्ष) जामनगर पैलेस, नवानगर राज्य, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
पढ़ाई की (Education Qualification)कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय (Cambridge University)
पद का नाम (designation)नवानगर के महाराजा (Maharaja of Nawanagar)
उपनाम (Nickname)रणजी, स्मिथ (Ranji, Smith)
किस टीम से खेले इंग्लैंड
रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja)

जामनगर का करवाया विकास

रणजीतसिंहजी (Sir Ranjitsinhji Vibhaji) को साल 1907 में नवानगर रियासत का महाराजा बनाया गया। ये एक क्रिकेटर के साथ अच्छे राजनेता (राजा) भी थे इन्होंने नवानगर की राजधानी जामनगर का चहुमुखी विकास करवाया। जामनगर का आधुनिकीकरण कर और नवानगर के बंदरगाह का विकास किया और सड़कों, रेलवे और सिंचाई सुविधाओं का निर्माण किया।

रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja)

रणजीतसिंहजी की बल्लेबाज़ी के आंकड़े

फॉर्मेट (Format)टेस्ट मैच (Test Match) (1896–02)प्रथम श्रेणी मैच (First Class Match) (1893–20)
मैच (Match)15307
रन (Run) 98924692
एवरेज (Avarage)45.0056.4
स्ट्राइक रेट (Strike Rate)
रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja)

रणजीतसिंहजी की गेंदबाज़ी के आंकड़े

फॉर्मेट (Format) टेस्ट मैच (1896–02)प्रथम श्रेणी (1893–20)
मैच (Match)15307
विकेट (Wicket)1133
इकोनॉमी (Econ)2.413.47
एवरेज (Avg)39.0034.04

रणजीतसिंहजी की फ़ील्डिंग के आंकड़े

फॉर्मेट टेस्ट मैच प्रथम श्रेणी
कैच लिए (Catches)13234
रन आउट (Run Outs)
स्टंपिंग (Stumpings)00
रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja)

11 वर्ष की उम्र में खेला था रणजीतसिंहजी ने पहला मैच

रणजीतसिंहजी जड़ेजा (Ranjitsinhji Jadeja) को बचपन से ही क्रिकेट का शौक था उन्होंने मात्र 10 से 11 वर्ष की उम्र में पहली बार अपने स्कूल के लिए 1883 में क्रिकेट मैच खेला। और 1884 में अपने स्कूल की टीम की कप्तानी सम्हाली और साल 1888 तक वे टीम के कप्तान रहे। बाद में उन्होंने इंग्लैंड की राष्ट्रीय टीम के लिए 15 टेस्ट मैच खेले जिनमे उन्होंने 989 रन बनाए और रोचक बात यह है की उन्होंने अपने सभी मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले।

रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja)

रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा का प्रारंभिक जीवन

इनका जन्म काठियावाड़ के नवानगर के सरोदर गांव में एक राजपूत परिवार में हुआ इनके पिताजी का नाम जीवनसिंहजी था। उनका जन्म एक किसान परिवार में हुआ लेकिन वो बाद में नवानगर के जाम साहिब बन गए।

रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja)

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान खो दी आंख

  • जब प्रथम विश्व युद्ध का समय था जाम साहिब शिकार खेलने गए लेकिन जैसे ही जानवर का शिकार करने के लिए उन्होंने गोली चलाई वो गोली उनकी आंख के पास आ लगी और उनकी एक आंख चली गई जिसके बाद उनकी क्रिकेट में वापसी कठिन हो गई।
रणजीतसिंहजी विभाजी जडेजा (Ranjitsinhji Vibhaji Jadeja)
  • इन्होंने कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला और ससेक्स के लिए काउंटी क्रिकेट वही इन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट (टेस्ट मैच) इंग्लैंड की टीम के लिए खेला।

परिवार में भी जगी क्रिकेट के लिए ललक

  • साल 1932 में रणजीतसिंहजी के भतीजे बाएं से दाएं के. एस. समर सिंह जी, के.एस. इंद्रविजय सिंह जी, के.एस. रणवीर सिंह जी, के.एस. जयेंद्र सिंह जी चारो ने अपने चाचा को देखते हुए क्रिकेट खेलना शुरू किया।
साल 1932 में रणजीतसिंहजी के भतीजे बाएं से दाएं के. एस. समर सिंह जी, के.एस. इंद्रविजय सिंह जी, के.एस. रणवीर सिंह जी, के.एस. जयेंद्र सिंह जी चारो ने अपने चाचा को देखते हुए क्रिकेट खेलना शुरू किया।

रणजीतसिंहजी के बारे में रोचक तथ्य

  • रंजीतसिंहजी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने वाले पहले भारतीय थे।
  • क्रिकेट लेखक और पत्रकार नेविल कार्डस ने सर रणजीत सिंह जी विभाजी जडेजा को ‘द मिडसमर नाइट्स ड्रीम ऑफ़ क्रिकेट‘ कहा था।
  • यह 1931 से 1933 तक “चेम्बर ऑफ प्रिन्सेज़” के चांसलर रहे बाद में उनके उत्तराधिकारी दिग्विजयसिंहजी इसके चांसलर बने।
कुमार श्री रणजीत सिंहजी (1872-1933) (Kumar Shri Ranjit Singhji (1872-1933)
यह भी पढ़े

Ram Singh Rajpoot

Recent Posts

Uttrakhand News: उत्तराखंड हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस रितु बाहरी का जीवन परिचय

Ritu Bahri Biography In Hindi: ऋतु बाहरी को हाल ही में उत्तराखंड हाई कोर्ट की…

4 months ago

Up Board 12th Time Table 2024 | यूपी बोर्ड 12वी टाइम टेबल 2024 हुआ जारी यहां चेक करें upmsp.edu.in

यूपी बोर्ड 12वीं का टाइम टेबल 2024 अभी तक जारी नही हुआ है लेकिन आप…

4 months ago